रुचि के स्थान

छत्तीसगढ़ राज्य के दक्षिण बस्तर क्षेत्र में स्थित एक सुंदर जिला है। दंतेवाड़ा जिला साल-सागौन के घने जंगलों और सुदंर व लंबी पहाड़ियों के बीच स्थित है। जिले में इंद्रावती, गोदावरी और शभरी नदीयां प्रवाहित है। ये नदियों जिले में कई स्‍थानों पर जलप्रपात बनाते हुए मनोरम दृश्य बनाती है। सुंदरता के अलावा बारसुर, भद्रकाली और दंतेवाड़ा में कई ऐतिहासिक स्थान पर्यटकों के आर्कषण का केन्‍द्र है। दंतेवाड़ा की यात्रा बैलाडिला लौह अयस्क परियोजना , लौह अयस्‍क की खानें, उद्यान और कैलाश नगर एवं आकाश नगर की पहाड़ियों के शीर्ष स्‍थानों पर जाये बिना पूरी नही हो सकती।

यात्रा के स्थान

दंतेवाड़ा: – भारत का एक बहुत ही प्राचीन शहर, दंतेवाड़ा अपने सुनहरे अतीत में एक गौरवशाली राज्य का राजधानी शहर रहा था। इस शहर को पूर्व ऐतिहासिक दिनों में तारलापाल और दंतावली के नाम से जाना जाता था, जिसका उल्लेख जिले में पाए गए पत्थर की नक्काशी पर पाया जा सकता है। देवी दंतेश्‍वरी का शानदार और प्राचीन मंदिरआकर्षण स्‍थलों की सूची में सबसे पहले है। यह मंदिर, जो देश के शक्तिपीठों में से एक है, देश के विभिन्न हिस्सों से वर्ष भर भक्तों का आना लगा रहता है। शंकीनी और धंकिनी पवित्र नदियों के संगम पर स्थित मंदिर का निर्माण दक्षिण भारतीय वास्‍तुकला शैली पर आधारित है जो मंदिर में आने वाले भक्‍तों को सुख और शांति का अनुभव प्रदान करता है। दंतेश्‍वरी माता मंदिर के अलावा, भैरम बाबा का मंदिर भी ऐतिहासिक रूप से महत्वपूर्ण स्थान है।

बैलाडिला पर्वत श्रृंखला : – विशाल और उच्च गुणवत्ता वाले लौह अयस्क भंडार के लिए दुनिया में प्रसिद्ध है। इस श्रेणी में कुल 14 रिजर्व खोजे गए हैं, जिनमें से 3 स्‍थानों पर खनन गतिविधियां चल रही हैं। चूंकि पर्वत की इस श्रृंखला में चोटियों को शामिल किया गया है जो विभिन्न स्थानों पर बैल के कूल्हे की तरह दिखते हैं, स्थानीय भाषा में, पहाड़ों की इस श्रृंखला को “बैला डीला” कहा जाता है, जिसका अर्थ है बैल का कूल्हे।बैलाडिला को एक औद्योगिक क्षेत्र के रूप में स्थापित किया गया है जिसे दो शहरों, अर्थात् बचेली (दंतेवाड़ा से 2 9 किलोमीटर) और किरन्दुल (दंतेवाड़ा से 41 किमी) में बांटा गया है।लौह अयस्क खान इस पर्वत श्रृंखला के शीर्ष चोटी पर स्थित हैं, जिसे “आकाश नगर” कहा जाता है, जिसे एनएमडीसी (राष्ट्रीय खनिज विकास निगम) से पूर्व अनुमति के साथ देखा जा सकता है। बचेली से आकाश नगर के बीच सर्पाकार एवं घुमावदार 22 किलोमीटर लम्‍बा घाट आगंतुकों को रोमांचित करता है और यात्रा के दौरान पूरे क्षेत्र का अनुपम दृश्य पक्षी की ऑखों से देखने जैसा प्रतित होता है। एनएमडीसी की खनन गतिविधियों को समझने के अलावा आकाश नगर के सुखद इलाके जो नीले आकाश में फैला हुआ प्रतीत होता है, हरे जंगलों के बीच सुंदर परिदृश्यों का मनोरम दृश्य का नया अनुभव कराता है।

इसी प्रकार बैलाडिला का एक और शिखर जो किरन्दुल से 12 किलोमीटर घाट रोड आंगतुको को आकाश नगर के समान सुंदर कैलाश नगर तक ले जाता है। यहॉ आप नीले रंगीन लौह अयस्‍क की तरह ब्‍लु डस्‍ट की दुर्लभ और अद्भुत खानें देख सकते है।

बचेली और किरन्‍दुल दोनों स्‍थानों पर जाने के लिए नियमित अंतराल में बसें एवं निजी वाहन दंतेवाड़ा से मिल सकते है।

बारसुर : – जगदलपुर से 75 किलोमीटर दूर दंतेवाड़ा जाने के लिए एक छोटा शहर गीदम स्थित है, गीदम बारसुर के उत्तर में 24 किलोमीटर दूर स्थित है। 840 ईशा पूर्व गंगवंशी शासकों के कार्यकाल के दौरान छोटे निष्‍क्रीय गॉव बारसूर को सत्‍ता से बाहर कर दिया गया था। इंद्रावती नदी के तट पर स्थित बारसूर प्रसिद्ध रूप से मंदिरों और तालाबों के शहर के रूप में जाना जाता है। ऐसा माना जाता है कि प्राचीन काल में यहां 147 मंदिर और समान संख्या में तालाब थे। धीरे धीरे समय गुजरत हुए बारसुर अपने भव्‍यता खोता चला गया फिर भी यहॉ स्थित मंदिरों के खंडहर लोगों का ध्‍यान आकर्षित करते है। उल्‍लेखित करने वाले कुछ मंदिरों में मामा – भॉचा मंदिर , चन्‍द्रदित्‍य मंदिर बत्‍तीसा मंदिर और भगवान गणेश की एक विशाल मुर्ति है। इन मंदिरों के अलावा पूर्व-ऐतिहासिक दिनों का एक विशाल तालाब देखने लायक है।

वाहन: – नियमित अंतराल पर गीदम से टैक्सी उपलब्ध है।

बोधघाट सातधार: – बारसुर से 6 किमी दुर इंद्रावती नदी 7 भागों पर विभाजित होकर एक सुंदर छोटे से झरना बना हुयी प्रवाहित होती है। घने हरे जंगलों से पूरी तरह से ढंका यह स्थान नदी, पानी और पहाड़ों के संयोजना की सुंदरता को समझाता है।अपनी सभी सुंदरता और शांतिपूर्ण इलाके के साथ सातधार एक पिकनिक स्थान है।

गामावाड़ा के स्‍मृति स्‍तंभ : – दंतेवाड़ा से 14 किलोमीटर दुर बचेली जाने के रास्ते पर एक छोटे से गांव गामावाडा स्थित है जहां बड़े आकार के पत्थर के स्तंभ स्थानीय जनजातियों की पुरानी परंपरा को समझने के लिए आगंतुकों को आमंत्रित करते है। सदियों से स्थानीय निवासियों द्वारा बनाए गए इन विशाल आकार के पत्थर के स्‍तंभ मूल रूप से संस्‍कृति और रिश्तेदारों को समर्पित स्मृति स्तंभ हैं।

वाहन: – नियमित अंतराल पर दंतेवाड़ा से बसें और वाहन उपलब्ध रहते है।